A talk on Anemia : Department of Home Science

पोषण पखवाड़ा के अवसर पर एक परिचर्चा का आयोजन

पोषण पखवाड़ा के अवसर पर श्री अरविंद महिला महाविद्यालय, पटना के गृह विज्ञान विभाग द्वारा एनीमिया के रोकथाम पर एक परिचर्चा का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ दीप प्रज्ज्वलन और अतिथियों को पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित करते हुए किया गया। कार्यक्रम का विषय प्रवेश गृह विज्ञान विभाग की विभागाध्यक्षा डॉ विमी सिंह के द्वारा किया गया जिसमें उन्होंने राष्ट्रीय पोषण पखवाड़ा के चारों थीम के बारे में चर्चा करते हुए बताया कि 15 दिनों तक चलने वाले इस जागरूकता पखवाड़े का उद्देश्य हर नागरिक को पोषण के बारे में जागरूक होकर स्वयं को स्वस्थ रखना है। महाविद्यालय में गत 1 अप्रैल को जांच शिविर में एनीमिया जांच की रिपोर्ट पेश करते हुए यह बताया गया कि WHO के मानकों के आधार पर 7% छात्राओं में मॉडरेट एनीमिया, 57% छात्राओं में माइल्ड एनीमिया के लक्षण पाए गए। 36% छात्राओं की रिपोर्ट नॉर्मल पाई गई। छात्राओं के बॉडी मास इंडेक्स भी बताया गया। कार्यक्रम को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित करते हुए शहर की जानी मानी स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ नीतू प्रसाद ने एनीमिया के कारण, लक्षण, बचाव एवम उपचार के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने छात्राओं को एनीमिया से जुड़े अनेक मिथकों को तोड़ते हुए संतुलित आहार लेने का परामर्श दिया। कार्यक्रम को दूसरी वक्ता के रूप में डायटिशियन रूपाली सिंह ने संबोधित करते हुए एनीमिया के रोकथाम में पारंपरिक आहार की भूमिका पर विस्तार से प्रकाश डाला।  खान पान में विविधता लाकर आहार को संतुलित किया जा सकता है जिसके अंतर्गत पारंपरिक अनाज, मौसमी, स्थानीय फलों और सब्जियों को प्राथमिकता दिया जाना चाहिए। इसके अतिरिक्त प्रोटीन पर विशेष ध्यान देना चाहिए। कार्यक्रम को महाविद्यालय की प्रोफेसर इन चार्ज डॉ साधना ठाकुर ने संबोधित करते हुए छात्राओं से अपील की कि वे कार्यक्रम में बताई गई बातों को न सिर्फ अपने जीवन में उतारें बल्कि परिवार और समाज को भी बताएं ताकि इस कार्यक्रम का अधिकतम लाभ हो सकें। कार्यक्रम में मंच संचालन दर्शन शास्त्र विभाग के सहायक प्राध्यापक गोपाल कुमार के द्वारा किया गया जबकि धन्यवाद ज्ञापन राजनीति विज्ञान विभाग की सहायक प्राध्यापिका डॉ सपना बरुआ के द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम में डॉ बी मौर्या, डॉ प्रभा मिश्रा, डॉ गीता कुमारी, डॉ पुष्पा राय, डॉ अनुमाला सिंह सहित  महाविद्यालय की बड़ी संख्या में  शिक्षिकायें एवम छात्राएं उपस्थित रहीं।